Sarvanam kise kehte hai? सर्वनाम & 6 भेद!

स्वागत है दोस्तों आज के इस भाग सर्वनाम में,जिसे इंग्लिश में pronoun कहते है। दोस्तों जैसा की हम सभी जानते है, सर्वनाम वह शब्द है, जो व्यक्ति,वस्तु,स्थान संज्ञा के नाम के जगह पर इस्तमाल होते है,जैसे -वह,वे, तुम,तुम्हारा,आप,आपका इत्यादि।

यहाँ तक तो सर्वनाम easy लगता है,लेकिन जब बात इसके भाग और उपभाग को समझने तथा इस्तमाल करने की आती है तो,बहुत से नियम हमें असमंजस में डाल देते है। जैसे अन्यपुरुष सर्वनाम के साथ एक वचन होगा या बहुवचन?यह समस्या खास तौर पर बच्चों और अहिन्दी भाषी लोगों को होती है। इसलिए मैंने कम शब्दों, तथा ज्यादा उदाहरणो के माध्यम से सर्वनाम को समझाने का प्रयास किया है। जिससे जल्द से जल्द इसे समझा जा सके। चलिए उदाहरण से समझते है।

Sarvanam kise kehte hai? सर्वनाम किसे कहते है?

माँ क्या मैं बाहर जा सकता हूं ठीक है पर कहां जा रहे हो ? जी पास के बगीचे में। बहुत अच्छा तुम कब लौट आओगे? और क्या-क्या खेलोगे ? मैं शाम तक लौट आऊंगा और मैं मेरी रुचि तथा दोस्तों की रूचि के अनुसार खेल खेलूंगा।

 ऊपर दिए गए उदाहरण में रंगे हुए शब्द सर्वनाम है। जो संज्ञा के स्थान पर उपयोग हुए है। अर्थात- संज्ञा के स्थान पर जिन शब्दो  का प्रयोग होता है उसे सर्वनाम कहते हैं।

इन्हे भी जानें –

 Types of Sarvanam सर्वनाम के 6 भेद होते हैं-

  • पुरुषवाचक सर्वनाम
  • निश्चयवाचक सर्वनाम
  • अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  • प्रश्नवाचक सर्वनाम
  • संबंधवाचक सर्वनाम
  • निजवाचक सर्वनाम।

 1: पुरुषवाचक सर्वनाम(Sarvanam)- 

कहने वाले तथा सुनने वाले और अन्य लोग जो वहां उपस्थित नहीं हो, उनके लिए जिन शब्दों का प्रयोग होता है वह पुरुषवाचक सर्वनाम कहलाते हैं। 

जिसके तीन भेद होते हैं- उत्तम पुरुष सर्वनाम, मध्यम पुरुष सर्वनाम, अन्य पुरुष सर्वनाम

1 उत्तम पुरुष सर्वनाम –कहने वाले अर्थात वक्ता के लिए जिन सर्वनाम का प्रयोग किया जाता है वह उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम कहलाते हैं- मैं ,मेरा( एकवचन के लिए) और हम, हमारा, हमें बहुवचन के लिए प्रयोग होता है। जैसे-

  • मैं जा रहा हूं
  • हमें सच्चाई के राह पर हमेशा चलना चाहिए।

2 मध्यम पुरुष सर्वनाम- सुनने वाले अर्थात श्रोता के लिए जिन सर्वनाम का प्रयोग हो वह मध्य पुरुषवाचक सर्वनाम कहलाते हैं जैसे तू, तेरा,आप,आपको तुम,तेरा मध्यम पुरुष सर्वनाम के उदाहरण है। जैसे-

  • आप आएंगे
  • आप यहां बैठिए।

 3 अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम- कहने और सुनने के अवाला तीसरे अनुपस्थित व्यक्ति के लिए, जिस सर्वनाम का उपयोग होता है वह अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम कहलाते हैं। अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण- जैसे वह,उसे, उनका, वे, उदाहरण-

  • वह आया नहीं
  • वह कब पहुंचेंगे?

2: निश्चयवाचक वाचक सर्वनाम Sarvanam

 निश्चयवाचक सर्वनाम- वह सर्वनाम जो दूर या नजदीक की वस्तु या व्यक्ति का बोध करवाएं,निश्चयवाचक सर्वनाम कहलाते है। जैसे -यह,वह,

यहां पर जानने योग्य बात यह है कि वाक्य में संज्ञा की स्थिति निश्चित होनी चाहिए। जैसे -यह दरवाजा को देखो,बहुत मजबूत है। इस वाक्य में यह दरवाजा के लिए ही आया है,जो निश्चित है। जैसे -जो सामान आपने बुलाया था, वह आ गया है।

 चलिए यह और वह का प्रयोग के आधार पर देखेते है। निश्चयवाचक सर्वनाम और अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम मे बहुत समानता होती है। हम इसे इस प्रकार भेद कर सकते हैं- अगर संदर्भ  के साथ वाक्य आया है, तो वह निश्चयवाचक होगा। जैसे – जो आप कुर्सी देख रहे हो वह मैंने ख़रीदा था। लेकिन जब संदर्भ ना हो तब सर्वनाम पुरुषवाचक भी हो सकता है, और निश्चयवाचक भी। इसे इस प्रकार समझे कि यदि वह व्यक्ति के लिए आया है तो अन्यपुरुषवाचक मान ले लेकिन यदि घटना वस्तु के लिए आया हो तो निश्चयवाचक समझ लीजिए।

3: अनिश्चयवाचक सर्वनाम Sarvanam

 जो सर्वनाम किसी निश्चित व्यक्ति या निश्चित वस्तु का बोध नहीं करवाते है। उन्हें अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं जैसे- कोई, किसी, कुछ। 

  • अंदर कोई आया है। 
  • बगीचे से से कुछ भी ले आना।

4: प्रश्नवाचक सर्वनाम Sarvanam

जिससे संज्ञा के विषय में प्रश्न का बोध हो, वह प्रश्नवाचक सर्वनाम कहलाएगे। जैसे -कौन, किसका, किसे, क्या, किसने इत्यादि। जैसे –

  • अंदर कौन है ?
  • किससे बात करनी है ?
  • किसने क्या कहा ?
  • कल क्या होगा पता नहीं

5: संबंधवाचक सर्वनाम Sarvanam

 मिश्रित वाक्य के उप वाक्यों में संज्ञा से संबंध दिखाने वाले सर्वनामों को संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं। यह उपवाक्य में आए संज्ञा या सर्वनाम पदों के साथ आश्रित उपवाक्य का संबंध दर्शाते है। जैसे -जो, जिसे, जिसको,आदि संबंधवाचक सर्वनाम है। जैसे –

  • यह वही लड़की है जिसे तुम देखना चाहते हो।
  • जिससे मैंने बात की थी वह चली गई।
  • जो साहसी होता है वह मेहनत करने से नहीं चूकता।

6: निजवाचक सर्वनाम Sarvanam

 निज मतलब होता है अपना, जो सर्वनाम खुद के लिए प्रयोग होता है उसे निजवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे -आप ही, अपने आप, खुद, स्वयं आदि शब्द, खुद के लिए प्रयुक्त हो रहा है अर्थात यह निजवाचक सर्वनाम कहलाएंगे। जैसे –

  • मैं अपना काम स्वयं करती हूं।
  • सरिता अपने आप खाना बना लेगी।
  • वह खुद ही चला जाएगा।

 यह,वह, कोई, कुछ, कौन, क्या, हमारा (पुरुषवाचक ) तथा कभी-कभी विशेषण (संख्यावाचक, परिणाम वाचक, या सर्वनामिक के रूप में भी कार्य करते हैं। 

इन्हें निम्नलिखित उदाहरण से समझा जा सकता है। जब यह संज्ञा के स्थान पर आए तब सर्वनाम (Sarvanam )हो जाएगी। जैसे –

  • कौन गया है?
  • कोई तो बताओ?
  • क्या लेकर आए हो?

 सर्वनाम शब्दों  का संबोधन रूप नहीं होता है। संज्ञा की तरह सर्वनाम लिंग के अनुरूप नहीं बदलता है।  संबंधवाचक सर्वनाम में केवल लिंग बदलते हैं। संबंधवाचक को छोड़कर सभी सर्वनाम का लिंग क्रिया रूप से पता चलता है। जैसे -लड़का गा रहा है वह प्राइस जीत जाएगा। लड़की गा रही है वह जीत जाएगी। ऊपर के दोनों वाक्य में वह सर्वनाम नहीं बदला लेकिन लिंग बदल गया। 

पुरूषवाचक

कारकएकवचनबहुवचनएकवचनबहुवचनएकवचनबहुवचन
कर्तामै
मैंने
हम
हमने
तू
तूने
तुम
तुमने
वह
उसने
वे
उन्होंने
कर्म /संप्रदानमुझको
मुझे
हमको
हमे
तुझको
तुझे
तुमको
तुम्हें
उसको
उसे
उनको
उन्हे
करण/अपादानमुझसेहमसेतुमसेतुमसेउनसेउनसे
संबंधमेरा
मेरी
मेरे
हमारा
हमारी
हमारे
तुम्हारा
तुम्हारी
तुम्हारे
तुम्हारा
तुम्हारी
तुम्हारे
उनका
उनकी
उनके
उनका
उनकी
अधिकरणमुझमे
मुझपर
हममें
हमपर
तुममे
तुमपर
तुममे
तुमपर
उनमे
उनपर
उनमे
उनपर

Notes –

पुरुषवाचक सर्वनाम मूल रूप में हो तो, वे विशेषण नहीं होते। हरियाली सबको प्रभावित करती है यहां पर सब को विशेषण नहीं समझा जाना चाहिए। क्योंकि यहां सब को विभिन्न व्यक्तियों के लिए आया है अतः यह  पुरुषवाचक सर्वनाम होगा। संज्ञा तथा सर्वनाम की रचना हो सकती है, विशेषण की नहीं होती यहां सब से सबको बना है। विशेषण में परसर्ग नहीं लगता यहां पर को सब+को परसर्ग है।

निश्चयवाचक,प्रशनवाचक,संबंधवाचक

कारकएकवचनबहुवचन एकवचनबहुवचनएकवचनबहुवचन
कर्तायह, इसनेये, इनहोनेकौन /क्या /किसनेकौन /क्या /किन्होंनेजो /जिसनेजो /जिन्होंने
कर्म /संप्रदानइसको, इसेइनको, इन्हेकिसको /किसेकिनको /किनहेजिसको /जिसेजिनको /जिन्हे
करण /अपादानइससेइनसेकिससेकिनसेजिसमेजिनसे
सम्बन्धइसका, इसकी, इसकेइनका, इन्की इनकेकिसका,किसकी,किसकेकिनका किनकी किनकेजिसका जिसकी जिसकेजिनका जिनकी जिनके
अधिकरणइसमे, इसपरइनमे,इसपरकिसमे,किसपरकिनमें किनपरजिसमें जिसपरजिनमे जिनपर

निश्चयवाचक वाचक सर्वनाम वह को कारक -रचना अन्यपुरुष सर्वनाम के जैसी होती है।

अनिश्चयवाचक और निजवाचक

कारकअनिश्चयवाचक
एकवचन बहुवचन
निजवाचक
यह दोनों वचनों मे समान होता है
कर्ताकोई कोई /किन्हीं ने
किसी ने
आप, स्वयं, खुद, अपने आप
कर्म /संप्रदानकिसी को किन्हीं कोआपको,अपने आपको खुद को ,स्वयं को
निष्कर्ष –

आज के इस भाग में हमने सीखा संज्ञा के स्थान में प्रयुक्त होने वाले शब्द को सर्वनाम कहते है। सर्वनाम का अपना कोई अर्थ नहीं होता है संदर्भ की सहायता से अर्थ का अनुमान लगाते है। इसलिय सर्वनाम को detail मे समझना बहुत आवश्यक है ,इसलिए मैंने कोशिस की है सभी चीजों को उदाहरण से समझाने की। आशा है दोस्तों प्रस्तुति अच्छी लगी होगी। आपके प्रश्नो तथा सवालों का इंतज़ार रहेगा धन्यवाद!

Leave a Comment